४१९ ॥ श्री झाँझू दास जी ॥ | Rammangaldasji

साईट में खोजें

४१९ ॥ श्री झाँझू दास जी ॥


दोहा:-

झांझा वाद को त्यागि कै हरि को सुमिरौ भाय।

अँजुलि जल परमान यह नर तन छीजत जाय।१।

झाँझू कह चित चेतिये, काहे रहे भुलाय।

झाँझी कौड़ी नहि मिलै जो न भजै रघुराय।२।