३६७ ॥ श्री मनोहर दास जी ॥ | Rammangaldasji

साईट में खोजें

३६७ ॥ श्री मनोहर दास जी ॥

(अवध वासी)

 

 चौपाई:-

उलटा झूलेन सुमिरेन नामा। अन्त समय पायन हरि धामा।१।

कहैं मनोहर दास सुनाई। सुमिरन कीजै झूलि के भाई।२।