२४९ ॥ श्री कपिल देव जी ॥ | Rammangaldasji

साईट में खोजें

२४९ ॥ श्री कपिल देव जी ॥

जारी........

घट घट की वै जानते, सब में रमे हैं राम ।

या से मंगल राम तुम, करौ आपनो काम ॥२६॥

कपिल देव मम नाम है, रामै नाम अधार ।

राम नाम जो जानिहैं, मिलै ताहि सुखसार ॥२७॥