२४१ ॥ श्री अंधे शाह जी ॥(७) | Rammangaldasji

साईट में खोजें

२४१ ॥ श्री अंधे शाह जी ॥(७)

अर रर सिधौ लिखौ कबीर।

भोजन बसन में सादगी शाँति दीनता होय।

अन्धे कह सतगुरु शरनि सूरति शब्द मिलोय।

भला निर्भय निर्बैर न जग घूमै।४।